Thursday, 28 April 2011

प्रेम अभिव्यक्ति


कई इंसानों में प्रेमाग्नी जितनी प्रबळ होती है उसे दमन करने की शक्ती भी असीम होती है. कई बार प्रेमाग्नी को दबाते-दबाते इन्सान की अवस्था ऐसी हो जाती है मानो वर्षों  का रोगी हो. प्रेमियो को अपनी अभिलाषा पूरी होने की आशा हो या ना हो, परंतु वो मन ही मन अपनी प्रेमिकाओं से मिलने का आनंद उठाते रहते हैं . वे भाव संसार में अपने प्रेम पात्र से वार्तालाप करते हैं. उसे छेड़ते हैं , उससे रूठते हैं . उसे मनाते हैं और इन भावों में उन्हें तृप्ति मिलती है और मन को एक सुखद और रसमय कार्य मिल जाता है. परन्तु कोई शक्ति उन्हें इस भावोद्यान की सैर करने से रोके तो उन अभागों की दया शोचनीय हो जाती है.

अम्रिता प्रीतम

18 comments:

  1. बहुत अच्छी पंक्तियां। अब अमृता जी के आगे क्या लिखा जाए बस यह अर्ज़ है कि .....

    शब्द तो शोर है तमाशा है,
    भाव के सिंधु में बताशा है।
    मर्म की बात होठ से न कहो,
    मौन ही भावना की भाषा है।

    ReplyDelete
  2. इस प्यार को पागलपन कहा गया है इस जग में ! मीरा एक ऐसी ही दीवानी थी ...
    इन्हें समझना आसान नहीं !
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  3. प्रेम की भावना और प्रेमाभिव्यक्ति दोनों ही अद्भुत होते हैं ! एक प्रेमी अपने भावसंसार में जब विचरण करता है और प्रेम की जिन उदात्त अनुभूतियों को जीता है वे वर्णनातीत होती हैं ! सुन्दर पंक्तियाँ ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  4. मन के भावों को कोई न कोई प्रवाह मिलता रहे, दमन दुखदायी होता है।

    ReplyDelete
  5. प्रेम सबसे प्रबल भावना है वह अभिव्यक्ति का कोई न कोई माध्यम ढूंढ ही लेती है

    ReplyDelete
  6. प्रेम ही इंसान को इंसान बनाये रखता है प्रेम शाश्वत है और वो ही इस धरा को स्वर्ग सा बना सकता है |

    ReplyDelete
  7. पहली बार आपके ब्लॉग पर आया अच्छा लगा !
    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ ! शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. prem kaa virtual sansaar ,premi ke liye asli hotaa hai .
    vaayviy prem kee yahi to visheshtaa hai ,aseem hai .
    veerubhai .

    ReplyDelete
  9. anamika ji
    ek prem karne wala sachcha insaan jab
    apne mano bhovn ke sath apni alag hi duniya me vichran karta hai to use usme hi jo sukhad anubhuti hoti hai vah vastav me avarnniy hoti hai.ekdam sateek v yharth purn prastuti
    bahut bahut badhai
    poonam

    ReplyDelete
  10. एक मौन सृजन |

    ReplyDelete
  11. सच ही तो है ..सुन्दर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  12. हम सब इस दौर से गुज़रे हैं। अमृता प्रीतम ने मानो हर युवा धड़कन को एक आवाज़ दे दी।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति .आभार

    ReplyDelete
  14. आपको हरियाली अमावस्या की ढेर सारी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएं .

    ReplyDelete